Love

चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें;

जो ज़ख्म दे गए हो आप मुझे;
ना जाने क्यों वो ज़ख्म भरता नहीं;
चाहते तो हम भी हैं कि आपसे अब न मिलें;
मगर ये जो दिल है कमबख्त कुछ समझता ही नहीं।

 

jo zakhm de gae ho aap mujhe;
na jaane kyon vo zakhm bharata nahin;
chaahate to ham bhee hain ki aapase ab na milen;
magar ye jo dil hai kamabakht kuchh samajhata hee nahin।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close