Love

जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की;

हर धड़कन में एक राज़ होता है;
बात को बताने का भी एक अंदाज़ होता है;
जब तक ना लगे ठोकर बेवाफ़ाई की;
हर किसी को अपने प्यार पर नाज़ होता है।

 

har dhadakan mein ek raaz hota hai;
baat ko bataane ka bhee ek andaaz hota hai;
jab tak na lage thokar bevaafaee kee;
har kisee ko apane pyaar par naaz hota hai.

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close