Love

तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;

हर पल कुछ सोचते रहने की आदत गयी है;
हर आहट पे च चौंक जाने की आदत हो गयी है;
तेरे इश्क़ में ऐ बेवफा, हिज्र की रातों के संग;
हमको भी जागते रहने की आदत हो गयी है।

 

har pal kuchh sochate rahane kee aadat gayee hai;
har aahat pe ch chaunk jaane kee aadat ho gayee hai;
tere ishq mein ai bevapha, hijr kee raaton ke sang;
hamako bhee jaagate rahane kee aadat ho gayee hai.

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close