Uncategorized

फूल को भी नही मालूम

रात को फूल को भी नही मालूम की
उसे सुबह मंदिर पर जाना है
या कब्र पर जाना है,
इसलिये जिंदगी जितनी जीओ मस्ती से जीओ।।
जिसकी मस्ती जिंदा है
उसकी हस्ती जिंदा है
वरना
यूँ समझ लो कि
वह
जबरजस्ती जिंदा है।

🙏🏼💐🙏🏼💐🙏🏼💐

Show More

Related Articles

Close
Close