Love

महोब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद;

वो पानी की लहरों पे क्या लिख रहा था;
खुदा जाने हरफ-ऐ-दुआ लिख रहा था;
महोब्बत में मिली थी नफरत उसे भी शायद;
इसलिए हर शख्स को शायद बेवफा लिख रहा था।

 

vo paanee kee laharon pe kya likh raha tha;
khuda jaane haraph-ai-dua likh raha tha;
mahobbat mein milee thee napharat use bhee shaayad;
isalie har shakhs ko shaayad bevapha likh raha tha.

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close