Love

ये तन बनता जा रहा कंकाल जैसा है।

क्या बताऊँ मेरा हाल कैसा है;
एक दिन गुज़रता है एक साल जैसा है;
तड़पता हूँ इस कदर बेवफाई में उसकी;
ये तन बनता जा रहा कंकाल जैसा है।

 

kya bataoon mera haal kaisa hai;
ek din guzarata hai ek saal jaisa hai;
tadapata hoon is kadar bevaphaee mein usakee;
ye tan banata ja raha kankaal jaisa hai.

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close