Uncategorized

वो रात दर्द और सितम की रात होगी

मोहबत को जो निभाते हैं उनको मेरा सलाम है,
और जो बीच रास्ते में छोड़ जाते हैं उनको, हुमारा ये पेघाम हैं,
“वादा-ए-वफ़ा करो तो फिर खुद को फ़ना करो,
वरना खुदा के लिए किसी की ज़िंदगी ना तबाह करो”

mohabat ko jo nibhaate hain unako meree salama hai,
aur jo beech raaste mein chhod jaate hain unako, humaara ye pegaam hain,
“vaada-e-vaafa karo to phir khud ko fana karo,
varana khada ke lie kisee ke zindagee na taabaah karo “

 

 

वो रात दर्द और सितम की रात होगी,
जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी,
उठ जाता हु मैं ये सोचकर नींद से अक्सर,
के एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी

vo raat dard aur sitam kee raat hogee,
jo raat rukhajat unakee baaraat ho,
utho huh main soch raha hoon neend se aksar,
ke ek gair kee baahon mein mere saare kaamana hoga

Show More

Related Articles

Close
Close